Tag: Android’s Tips in hindi

Android kya hai kisne or kyu bnaya jane hindi me

click here..एंड्राइड दुनिया के अधिकतर मोबाइल फोन्स में इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे प्रचलित operating system है। नोकिया, ब्लैकबेरी और एप्पल को अगर छोड़ दिया जाए तो सारे मोबाइल सेट्स इसी आपरेटिंग सिस्टम पर काम करते हैं और यह दुनिया में सबसे तेजी से प्रगति करने वाला आपरेटिंग सिस्टम है। तो तकनीकी भाषा में समझिए कि आखिर एंड्रॉयड अन्य operating system से कैसे अलग है। एंड्रॉयड की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि आप इसमें संशोधन (Modification) कर सकते हैं। यानी आप अपनी जरूरत के हिसाब से कोई भी बदलाव कर सकते हैं। इसके अलावा किसी अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम में यह सुविधा नहीं होती है।

क्या है एंड्रॉयड:

दरअसल एंड्रॉयड लाइनेक्‍स आधारित मोबाइल फोन और टेबलेट के लिए तैयार किया गया operating system है। इसे गूगल ने तैयार किया है। दुनियाभर में बिकने वाले अधिकतर मोबाइल फोन इसी सिस्टम पर काम करते हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रति दीवानगी का आलम यह है कि गूगल के मुताबिक यह ऑपरेटिंग सिस्टम दुनियां के लगभग 1 बिलियन से ज्‍यादा स्‍मार्ट फोन और टेबलेट में इस्तेमाल किया जा रहा है।

एंड्रॉयड का इतिहास: एंड्रॉयड एप्लीकेशन अपने नामों के कारण अक्सर चर्चा में रहता है। आपको बता दें कि 30 अप्रैल साल 2009 को एंड्रॉयड ने अपना पहला कमर्शियल वर्जन 1.5 बाजार में उतारा था जिसका नाम कपकेक रखा गया था। इसके बाद एंड्रॉयड के कई वर्जन बाजार में उतारे गए जो अपने नामों के कारण चर्चा का केंद्र रहे।

×
बाजार में उतरे एंड्रॉयड के अब तक के वर्जन:

15 सितंबर 2009 को डोनेट एंड्रॉयड 1.6
26 अक्टूबर 2009 को अक्लेर एंड्रॉयड 2.0-2.1
साल 2010 एंड्रॉयड 2.2 फ्रोयो
दिसंबर 2010 जिंजर ब्रैड 2.3
साल 2011 जिंजर ब्रैड का संशोधित वर्जन 2.3.3-2.3.7
मई 2011 हनीकाम्ब 3.1
जुलाई 2011 हनीकाम्ब 3.2
दिसंबर 2011 आइसक्रीम सैन्डविच 4.0.3 और 4.0.4
साल 2012 में जैलीबीन 4.1x और 4.2x
साल 2013 में जैलीबीन 4.3.1
31 अक्टूबर 2013 में किटकैट 4.4-4.4.4, 4.4w-4.4w.2
12 नवंबर 2014 में लॉलीपाप 5.0-5.1.1
5 अक्टूबर 2015 में मार्शमैलो 6.0-6.0.1
22 अगस्त 2016 nougat 7.0

Advertisements

Airtel se 3g data payen simple sa kam kark

एयरटेल में ऐसे पाए फ्री 3 G data

 

जब कोई चीज़ हमे फ्री में मिलती है। तो हमे बहुत अच्छा लगता है।जहा जिओ अपना फ्री नेट offer ख़त्म करने जा रही है , वाही एयरटेल आपको फ्री 3 G डाटा offer कर रही है । यहा पर मै आपको एक ऐसी ट्रिक बताने जा रहा हूँ । जिससे आप अपने मोबाइल में एयरटेल में फ्री 100 MB 3G नेट प्राप्त कर सकते है। और इसका मज़ा ले सकते है ।
फ्री 3 G डाटा पाने के लिए आवश्यक बाते ?

आपको अपने मोबाइल में एयरटेल की तरफ से 100MB 3G नेट पाने के लिए ये शर्ते पूरी करना आवश्यक है।

1. आपका मोबाइल 3G होना चाहिए।

2. आपके मोबाइल में पहले से इस ऑफर का लाभ नहीं लिया गया हो।

3. आपके मोबाइल में 0 बैलेंस हो।

4. आपके क्षेत्र में 3G सुविधा उपलब्ध हो।

5. आप एक सिम पर एक बार ही इस ऑफर का लाभ ले सकते है।
 
कैसे पाएं 100 MB फ्री 3G नेट?
ऑफर का लाभ लेने के लिए आप नीचे बताये गए स्टेप्स फॉलो करे।
अपने एयरटेल नंबर से 129 नंबर डायल करे।

अब आपसे अपनी भाषा चुनने को कहा जायेगा । आप अपनी भाषा चुने ।

अब आपसे एयरटेल प्लैटिनम 3G ट्राई करने को कहा जायेगा आपको हाँ के लिए 1 नंबर दबाना है।

बस आपको कुछ ही समय में एक sms से बताया जायेगा की आपको 100 MB डाटा दे दिया गया है।

 

how to send apk file in whatsapp .

अब व्हात्सप्प से apk फाइल सेंड कर सेक्ट सकते है।

जिहा दोस्तो में आज आप को बताऊन की व्हाट्स अप्प परसे कैसे apk file सेंड कर सकते है।
 

स्टेप 1- आप फाइल मैनेजरमें जाकर कोनसा भी एप/apk सिलेक्ट करे, अब उस एप्लिकेशन को शेअर करे उसमे व्हाट्सएप नही दिखेगा।

 

स्टेप 2- अब उसी फ़ाइल की थोड़ी छेड़छाड़ करे यानी उस्का नाम बदले ex- facebook.apk है उसे बदल कर facebook.txt करो।

 

स्टेप 3-अब उस एप/apk फ़ाइल टेक्स्ट फ़ाइल में कन्वर्ट होगए है, अब उसी फ़ाइल को सेलेक्ट करके शेअर कीजिये व्हाट्सएप पर।

 

स्टेप 4- अब जिसको भेजा है उसे डाउनलोड करने को कहे उसे डाउनलोड करने के बाद फ़ाइल मैनेजर में जाए व्हाट्सएप्प में जाकर व्हाट्सएप डॉक्यूमेंटमें जाए  ex-facebook.txt को बदलकर facebook.apk करे।

​एंड्राइड मै kernel क्या होता है ?

Android me” kernel”kya hota hai ayiye jante hai.
 

दोस्तों आज हम उस kernel की बात नही करेगे जो आपको आउट फ़ोर्स मैं या army मैं मिलेंगे तो आज हम उस kernel की बात करेगे जो आपके स्मार्ट फ़ोन मे  एंड्राइड मैं , लेपटोप या डेस्कटॉप मे होता है .
अगर आप अपने मोबाइल के settings>about  में जो वहां लिखा  होगा की kernel version और उसके निचे लिखा होता है आपके kernel के नाम और उसकी details और कोड नंबर और उसकी साडी जानकारी .

ये हर टेक्नोलॉजी में यूज़ होता है जिस hardwere मे OS install किये जाते है जेसे 

Android

Windoes

MAC

Symbin

kernel क्या है ?
अगर हम example के लिए स्मार्ट फोन ले तो उसमें  तरह तरह के hardwere कंपोनेंट्स देखने को मिलते हैं जेसे –
RAM 

Processer 

Store

Camera

Display

इनके आलावा भी कई hardwere पार्ट्स होते हैं जो मोबाइल से जुड़े रहते हैं इसी तरह लैपटॉप डेस्कटॉप आदि मैं भी पार्ट्स जुड़े रहते हैं . 
इसे मैं इन hardwere को रन करने के लिए एसे sourse की आवस्यकता है जो इनको ठीक तरह से इस्तेमाल करे और आपके softwere तक भेज सके .  
मानलो मेरे पास एक कैमरा apps है जिसे मेरे फ़ोन मैं install किया हैं , अब जेसे ही मैं उस कैमरा apps को ओपन करुगा तो कैमरा apps भी कहेगी की कैमरा को access कर सके ,  तो एसे मैं मेरे पास softwere को कैमरा hardwere की access देने के लिए एक Authentecation होनी चाहिए जिससे वो परमिशन दे सके .
ऐसे मैं softwere और hardwere के बीच में softwere को उस हर step के लिए hardwere से परमिशन लेनी होगी जेसे –

* कैमरा apps को कोई भी click करने के पहले hardwere से LED के लिए परमिशन लेनी होगी 

* फोटो click होने के बाद apps को hardwere से ये परमिशन लेनी होगी की मुझे अब pic स्टोर करना है 

एसे मे ये सारी परमिशन लेने देने का काम kernel करता है .

kernel एक एसा softwere है जो hardwere और softwere के बीच मैं पुल का कम करता हैं 

softwere क जो भी hardwere रिक्वायर्ड होती हैं वो kernel true request करते हैं और kernel उसकी request एक्सेप्ट करके उसके बीच में hardwere कम्युनिकेशन पूरा करके देता है .

Scening app se sambhal kar rakhen apne jaruri dastawej

दस्तावेजों को सहजने की जरुरत हमारी जिंदगी में आम बात है। अक्सर हम फोन से उन दस्तावेजों की फोटो खींच लेते हैं मगर उनकी फोटो क्वालिटी खराब होने की वजह से वे बेकार हो जाते हैं। इस तरह की समस्या से बचने के लिए आप स्कैनिंग एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं जो दस्तावेजों की क्वालिटी को सुधारने में मदद करते हैं।

कैम स्कैनर एप

गूगल प्ले स्टोर पर मुफ्त में मौजूद कैम स्कैनर एप की मदद कागजों की फोटो खींचने के बाद उनकी क्वालिटी अपने आप बढ़ जाती है। इसमें पीडीएफ बनाने का विकल्प भी है। इस एप की मदद से जब भी आप किसी दस्तावेज की फोटो खींचेंगे तो वह ऑटोमैटिक तरीके से टेक्स्ट और ग्राफिक को साफ करके दिखाएगा। इसमें शेयर करने का विकल्प भी मौजूद है और उसमें पासवर्ड का सुरक्षा कवच भी लगा सकते हैं। इससे वही व्यक्ति उस फाइल को खोल सकेगा जिसे उस पासवर्ड की जानकारी होगी। अगर आपने किसी को वह फाइल भेजी है तो उसे वही व्यक्ति खोल सकता है जिसे उस पासवर्ड की जानकारी है। यह गूगल प्ले स्टोर पर CamScanner -Phone PDF Creator नाम से मौजूद है।

डॉक्यूफाई एप

Docufy – Convert to PDF नाम का यह एप एंड्रॉयड यूजर के लिए मुफ्त में उपलब्ध है। इसमें ब्राइटनेस को मैनुअली बढ़ाया जा सकता है। यह एप स्कैन दस्तावेजों को गूगल ड्राइव पर पर ऑटोमैटिक सिंक करके पहुंचाता रहता है। ताकि बाद में जरूरत पड़ने पर आप उन्हें कहीं से भी एक्सेस कर सकते हैं। सेटिंग में जाकर इसके सिंक को बंद भी किया जा सकता है।

ऑफिस लेंस एप

माइक्रोसॉफ्ट का यह एप Office Lens एक पॉकेट स्कैनर की तरह है। दस्तावेजों को स्कैन करने के बाद अगर आप संतुष्ट नहीं है तो आप अपनी मर्जी से मैनुअली जाकर इसमें रंगों को सेट कर सकते हैं। स्कैन करने के बाद फाइल को वन नोट, वन ड्राइव और किसी भी लोकर ड्राइव में सुरक्षित करके रख सकते हैं। इससे खींची गई फोटो को एमएस ऑफिस की वर्ड फाइल, पावर प्वाइंट और पीडीएफ में बदला जा सकता है।

Agar apkr phone hai virus to eise hatayen.


आमतौर पर ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन वाइरस की चपेट में नहीं आते। कुछ ऐसे ऐड्स होते हैं, जो आपको गलत जानकारी देते हुए दिखाते हैं कि आपके फोन में वाइरस है और इसे ठीक करने के लिए हमारा ऐप डाउनलोड कर लीजिए। इसके अलावा कई बार फोन में अन्य तरह की गड़बड़ियां भी आ जाती हैं, जिससे वह ठीक से काम नहीं करता। मगर इसका मतलब यह नहीं कि ऐंड्रॉयड फोन एकदम सेफ होते हैं। इनमें भी वाइरस आ सकते हैं।

अगर आपके स्मार्टफोन में भी कोई वाइरस आ गया है तो आगे जानें, कैसे उसे पहचाना जा सकता है और कैसे हटाया जा सकता है…

हर कहीं से ऐप न डाउनलोड करें

वाइरस कैसा भी हो, ऐंड्रॉयड में वह ऐप्स की मदद से घुसपैठ करता है। आपके फोन या टैब में वाइरस हो तो सबसे पहले ऐप्स चेक करें। गूगल प्ले स्टोर से बाहर का कोई भी ऐप डाउनलोड नहीं करना चाहिए। मेसेज वगैरह से आए किसी लिंक से भी ऐप डाउनलोड न करें। हाल ही में गूगल प्ले स्टोर में भी कुछ खतरनाक ऐप्स की जानकारी मिली है। इसलिए ध्यान दें कि कहीं से भी ऐप डाउनलोड करना हो, पहले उसके बारे में पूरी जानकारी जुटा लें। अगर कोई ऐप खोलने पर फोन हैंग हो रहा हो या अजीब तरीके से व्यवहार कर रहा हो, संभावना है कि वह वाइरस हो। उसे हटाने की कोशिश करें, अगर कोई दिक्कत आए तो समझ जाइए कि यह मैलवेयर है

फैक्टरी रीसेट करें

अपने​ स्मार्टफोन की सेटिंग्स में जाएं और सिक्यॉरिटी ऑप्शन में जाकर Unknow Sources (allow installation of apps from unknown sources) को डिसेबल रखें। डिसेबल नहीं है तो डिसेबल कर दें। आप ऐंटीवाइरस ऐप भी इंस्टॉल कर सकते हैं। 360 मोबाइल सिक्यॉरिटी और Avast जैसे कई ऐप्स हैं। अगर कोई ऐसा वाइरस ऐप आ गया है तो अनइंस्टॉल ही नहीं हो रहा तो फैक्टरी रीसेट करें, यह हट जाएगा। मगर इसके साथ ही अन्य डेटा और ऐप्स भी साफ हो जाएंगे। फोन वैसा हो जाएगा, जैसा यह खरीदने पर मिला था। अगर आप डेटा खोए बिना वाइरस हटाना सीखना चाहते हैं

डेटा गंवाए बिना ऐसे हटाएं वाइरस

​अपने फोन या टैबलट को सेफ मोड पर डालें। इस मोड में थर्ड पार्टी ऐप्स और वाइरस रन नहीं कर पाते। सेफ मोड में फोन कैसे डालना है, इसके लिए गूगल पर How to put (यहां अपने फोन के मॉडल का नाम लिखें) into safe mode सर्च करें और इंस्ट्रक्शन फॉलो करें। सेफ मोड में जाने के बाद आपको स्क्रीन के लेफ्ट बॉटम पर Safe Mode लिखा मिलेगा।
 
अब Settings में जाकर Apps पर जाएं और Downloaded टैब खोलें। यहां चेक करें कि कौन से ऐप को आपने इंस्टॉल नहीं किया है। या फिर जो ऐप हट नहीं रहा हो, उसे तलाशें। उस ऐप पर टैप करें और Uninstall कर दें। आमतौर पर यहीं से ज्यादातर वाइरस हट जाते हैं।

ऐडमिन स्टेटस वाले वाइरस को ऐसे हटाएं

सेफ मोड में जिस ऐप का अनइंस्टॉल बटन न दिख रहा हो, उसे हटाने के लिए Apps को एग्जिट करें और सेटिंग्स में Security > Device Administrators में जाएं। यहां पर उन ऐप्स की लिस्ट मिल जाएगी, जिन्हें ऐडमिनिस्ट्रेटर स्टेटस मिला है। जिन ऐप्स को हटाना है, उनका यह स्टेटस टैप करके हटा दें। इसके बाद आप वापस Apps मेन्यु में जाएं और Uninstall पर टैप करके उस संदिग्ध ऐप को हटा दें। अब सेफ मोड से बाहर जाने के लिए फोन को फिर से रिस्टार्ट कर दें।
इस तरह की प्रक्रिया अगर आपको जटिल लगती है तो हमेशा सावधानी बरतें। कभी भी इधर-उधर से कोई ऐप डाउनलोड न करें। साथ ही कोई ऐंटी-वाइरस इंस्टॉल करके रखें

Get this cool Android App make free app our own fast and easy

http://www.appsgeyser.com/4716318?

Agar koi free application apna khud ka persnal bnana chahta hai or usse paise kmana chahta hai to please

Upr diya gya link se website par jakar apna khud ka app bna sakte hai vo bhi free me

Or unlimite app maker

Meri website ka app hai hmesha serch karne ki jaruart nhi direct ap dowload krlo friends

android tips,seo,blogging.,amazingfact,all in one hmesha new updates pane k liye download kare 
Dosto mene apka kam asan karne ke liye apni website ka ek aplication bna diya hai so aap niche diye gye link se download kar sakte hai 

Hmesha apke pas or apke sath please age bhi share jarur krna or 

Kisi ko apna khud ka personal ap banwana hai to contact me comant me thnx

Hi Guys! Checkout my awesome app, Android Tips And Tricks You can download my app from the respective App Store:

 Android: http://d2wuvg8krwnvon.cloudfront.net/appfile/ad8d4e8068dd.apk

​Mobile Ko Root Kaise Kare

Aaj hum sabhi ke liye mobile ek jarurat ban gaya hai or aaj sabhi ke paas ek se badhke ek mobile phones dekhne ko mil jaenge. Par aap jaise hi koi new phone lete hai kuch time baad jaise hi aap koi or mobile dekhte hai aapko bhi lagta hai kash mere phone me bhi ye feature hota. Par bar bar hare ek naye feature ke liye mobile change karna ye har koi afford nahi kar sakta. Par iska matlab ye toh nahi hai ye feature aapke mobile me nahi aa sakte. Toh chaliye aaj hum aapko batate hai kaise aap apne mobile phone ke maalik ban sakte hai, jisse aap jaisa chahe vaise hi apka mobile karde. Ye sab aap badi aasaani se apne mobile phone ko root karke kar sakte hai. Toh chaliye jaante hai Mobile Ko Root Kaise Kare Detailed Guide In Hindi phone root karna kya hota hai?

Android phone me aapne suna hoga, hum ishe root kar sakte hai. Par iske liye jaruri hai aap pahle ye samjhe rooting hoti kya hai. Apne dekha bhi hoga kuch apps aise hote hai jo apke liye bahut useful hote hai par aap unhe apne phone me install nahi kar skte, kyon ki vo apps bas rooted device me hi support hote hai. Mobile root karne se aap aasaani se apne phone ke bahut se feature unlock kar sakte hai. Jaise aap apne phone me pre-installed apps ko hata sakte hai. Aap apne phone ki internal memory ko increase kar sakte hai. Matlab agar aasaan words me baat ki jae toh aap apne phone ko apni marzi se jaise chae vaise customize kar sakte ho. Par iske fayede toh bahut hai, par saath me iske nuksaan bhi chipe hue nahi hai. Toh sabse pahle hum jante hai mobile phone ko root karne se kya benefits hote hai.

Mobile rooting se hone vale fayde

  1. Increase performance

Isse aap apne phone ki speed ko increase kar sakte hai. Hum log dekhte hai time ke saath sabhi smartphones slow hote chale jaate hai, par apne mobile phone ko root karke aap ishe pahle se bhi fast or high performance vala bana sakte hai.

  1. Long lasting battery life

Mobile phone ko root karke aap aasaani se apne phone ki battery ki life ko badha sakte hai. Aap dekhte honge aapkae mobile ki battery bahut jaldi discharge ho jaati hai, kyon ki aapke phone ki apps apki battery ko bhot jaldi drain ya khatam kar deti hai. Aap apne mobile phone ko root karke aasasni se apne phone ka battery backup badha sakte hai.

3. Apne mobile par special apps ko run kar sakte hai

Play store par bahut se aise aaps hai jo bahut kaam ke hote hai, par aap unhe apne phone me install nahi kar sakte, kyon ki apka phone aapko iski permission nahi deta. Iske liye aap apne phone ko root kar sakte hai, jisse aasaani se vo sabhi apps aap bina kisi problem ke apne mobile me run kara sakte hai.

4. Pre-installed apps ko hata sakte hai

Isse aap system ke pre-installed apps ko badi aasaani se hata sakte hai. Jab bhi hum koi new phone lete hai usme bahut sare apps pahle se hi installed aate hai, jo aap kabhi apni life me use hi nahi karte. Apne mobile ko root karke aap apni apps ko manage kar sakte hai.

  1. Custom rom

Isse aap apne mobile me custom rom ko add kar sakte hai. Apke mobile me pahle se hi operating system installed hua aata hai, aap ishe bhi custom rom ko add karke aasaani se kisi bhi android ka new version apne device me installed kar sakte hai.Mobile root karne se hone vale nuksaan

Warranty khatam ho jati hai

Agar aap apne mobile ko root karne jaa rahe hai toh is baat ka dhayan rakhe isse aapka phone warranty me nahi rhega. Apke phone ki warranty khatam ho jaegi. Kyon ki mobile ke jyadatar companies rooting ko legal nahi maanti. Inme samsung, htc, L.G. or bhi badi companies shaamil hai. Par MI ne ishe ab apne devices me allow kar dia hai. Par isse alag sabhi companies ke mobiles ko root karnse se pahle soch le.

Device ho sakta hai permanent kharab

Agar aapne galti se rooting ka koi bhi step miss kar diya toh aapka mobile humesa ke liye kharab ho jaega or aap ise kabhi on nhi kar sakRoot karne se pahle kya karna chahie


Sabse pahle apne system ki sabhi jaruri files ko backup kar lijiye. Varna rooting ki process me aap apna main data loss kar denge.

  1. Apne system ki settings me jake “unknown sources” ke option ko always allow karde.
  2. Sabse main hai apke phone ki battery khatam nahi honi chahie ishe kam se kam 65% rakhe.

Mobile Ko Root Kaise Kare

Apne phone ko aap aasaani se root kar sakte hai, iske liye apko playstore par bahut se apps mil jaege bs iske liye aap mobile root apps likh kar search kare, aapke saamne apps ki ek lambi list khulke aapke saamne aa jaegi. Inme se aap koi bhi aap downlod kar sakte hai. App ke ache se install ho jane ke baad, app ko open kare or usme se root ka option select kare. Bs iske baad apka phone root hona suru ho jaega, thodi der wait kare, 100 % process ke done ho jane ke baad apne phone ko restart kare or ab aapka phone root ho chuka hai ab aap isme jaise chay vaise changes kar sakte hai. Niche kuch apps ki list di gayi, jinse aap koi b app use karke apne system ko aasaani se root kar sakte hai.

  • Vroot
  • Framaroot
  • Kingroot
  • Towelroot

Note:- software ko install karne se pahle check karle ye apke phone me support krega ki nhi. Varna aap ishe download toh kar lenge par ap isse apna phone root nahi kar paenge.

Iske liye apko sabse pahle windows ke liye koi bhi root karne vali app ko download karna hoga. Iske successfully install ho jane ke baad in steps ko follow kare.

  1. Apne mobile ki setting me jake “usb debugging” mode ko enable kare.
  2. Iske baad developer option ko select kare.
  3. Agar aapko direct doveloper options nahi show ho raha hai toh about phone me jake build number par 7 bar click kare, aapko ye option aasaani se mil jaegi.
  4. Apne phone ko system se connect kare.
  5. Iske baad root ke option par select kare, aapka phone root hona suru ho jaega bs thodi der wait kare.

अपनाएं यह ट्रिक, WhatsApp में कोई नहीं कर पाएगा ताकझाक


अक्सर पब्लिक प्लेस में होने पर या अनजान लोगों के बीच बैठकर whatsApp पर चैटिंग करना मुश्किल हो जाता है। जैसे ही हम whatsApp ओपन करते हैं सबका ध्यान हमारी चैट पर होता है और लोग पूरी कोशिश करते हैं चैट पढ़ने की। यहां हम आपको एक ऐसी ट्रिक बता रहे हैं जिससे आप ऐसे लोगों से बच सकते हैं और अपनी चैट को छुपा सकते हैं।

Step 1 – सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर पर जाकर Maskchat टाइप करें। Step 2 – सबसे पहले दिखने वाले आइकन पर टैप करें।Step 3 – इस ऐप को इन्स्टॉल करके ओपन कर लें। Step 4 – ऐप ओपन करते ही आपसे ये कॉन्टैक्ट को एक्सेस करने की परमीशन मांगेगा। इसे Allow कर दें। Step 5 –इसके बाद आपको आपका जीमेल अकाउंट डालना होगा।Step 6 – अगर आप इस ऐप को यूज करने का ट्यूटोरियल देखना चाहते हैं तो Play पर टैप करें नहीं तो Skip कर दें। Step 7 – अब आपके सामने एक पेज ओपन होगा इसमें ऑप्शन को एनेबल करना होगा। Step 8 – इसके बाद आपको Maskchat पर टैप करना है। ऐसा करते ही ऐप एक्टिव हो जाएगी। आपके सामने एक कर्टन आ जाएगा। जिससे आप अपनी स्क्रीन को छुपा सकते हैं। Step 9 – अब WhatsApp ओपन करें और कर्टन को एडजस्ट कर लें। आपके टाइप करते वक्त कोई भी आपके मैसेज नहीं पढ़ पाएगा। ये ऐप आपके लिए बहुत काम की है।