Biography of Facebook founder Mark zuckerberg in hindi

कोई इंसान चाहे तो क्या कर सकता और किसी चीज को पुरे दिल से चाहो तो ईश्वर भी आपकी सहायता करता है ऐसी ही कहानी है Mark Zuckerberg की ! उम्र सिर्फ 19 साल थी जब फेसबुक को शुरू किया था आइये जानते हैMark Zuckerberg के पुरे जीवनकाल के बारे में की कैसे एक साधारण लड़काyoungest billionaires की list में शामिल हो गया !

CCS GREET YOU HEARTLY 
‘Facebook शुरू करने का मूल उद्देश्य कोई कंपनी बनाना नहीं थाइसे तो सामाजिक उद्देश्य से बनाया गया था ताकि विश्व अधिक खुल सके और जुड़ सकें !


Mark Zuckerberg motivational Quotes in Hindi

संसार की दूसरी सबसे बिजी वेबसाइट :फेसबुक इंक. एक अमेरिकी मल्टीनेशनल इंटरनेट कॉरपोरेशन हैजो सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटfacebook चलाता है इसका मुख्यालय मेनलो पार्क कैलिफ़ोर्निया में है ! facebook सबसे ज्यादा पुरानी नहीं है और इसे फरवरी 2004 में शुरू किया गया था कंपनी की अधिकांश आमदनी विज्ञापनों से होती है ! और 2011 में एशिया मध्य में 3.71 अरब डॉलर थी इसमें 3539 कर्मचारी काम करते थे और 15 देशों में इसके कार्यालय हैfacebook google के बाद संसार की सबसे व्यस्त वेबसाइट हैलोग हर महीने facebookपर 700 अरब मिनट से भी अधिक समय बिताते है |

पहला एशियाई ऑफिस भारत में : 2010 में इसने एशिया में अपना पहला ऑफिस हैदराबाद,भारत में खोला ! मई 2012 में फेसबुक के 90करोड सक्रिय सदस्य थेजिनमें से अधिकतर मोबाइल के जरिए फेसबुक पर जाते हैं ! 2011 में भारत में इसकी 2.3 करोड़ सदस्य है जनवरी2011 में फेसबुक ने fb.com डोमेन को 85लाख डॉलर में खरीद लिया ! Facebook की लोकप्रियता को देखते हुए इसके शुरूआती वर्षों पर 2010 में “The Social Network”नामक फिल्म भी बनी !

104 अरब डॉलर की कंपनी : मई 2012 मेंFacebook का IPO 38 डॉलर प्रति शेयर के भाव पर आयाऔर इसके आधार पर कंपनी का मूल्य 104 बिलियन डॉलर अंका गया !Facebook की लोकप्रियता की वे कौन से मंत्र हैजिनकी बदौलत इसके संस्थापक मार्कजकरबर्ग संसार के सबसे युवा अरबपति बन गए !Facebook में ऐसा कौन सा कमाल किया है,जिसकी वजह से Time Magazine ने इसके संस्थापक मार्क जकरबर्ग को 2010 काPerson of the year चुना ! सफलता के वह कौनसे फार्मूले है जिन पर चलकर मार्क जकरबर्गसंसार के सबसे अमीर व्यक्तियों की Forbesसूची में 35 वें स्थान पर है और उनके पास 17.5अरब डॉलर की संपत्ति है ?

बचपन के सबक : मिडिल स्कूल में पढ़ते समय ही मार्क जकरबर्ग को कंप्यूटर का चस्का लग गया था ! उन्होंने Programming के गुर सीखे ! आम तौर पर माता-पिता बच्चों के शौक को ज्यादा महत्व नहीं देते है ! लेकिन मार्क जकरबर्गके पिता ने एक कंप्यूटर प्रोग्रामर से अपने बेटे को विशेष ट्यूशन दिलवाई !

जब बाकी बचे कंप्यूटर गेम्स खेलते थे तब मार्क जकरबर्ग गेम्स बनाने में जुटे रहते थे ! जाहिर है, बचपन का यह शौक बाद में उनके बड़ा काम आया !

कॉलेज में भी मार्क जकरबर्ग का कंप्यूटर प्रेम जारी रहा ! हार्वर्ड में पढ़ते समय उन्होंनेFaceMash नाम से वेबसाइट बनाई, जिसमें उन्होंने दो लड़कों और दो लड़कियों के फोटो दिखाएं फिर उन्होंने वेबसाइट पर आने वाले लोगों से आग्रह किया कि वह ज्यादा आकर्षक फोटो को वोट दें !

पहले ही घंटे में 450 लोगों ने इंटरनेट पर इसे देखा ! वीकेंड पर शुरु हुई इस वेबसाइट की लोकप्रियता से हार्वर्ड का सर्वर बैठ गया ! इसलिए वेबसाइट बंद कर दी गई कई विद्यार्थियों ने शिकायत की कि उनके फोटो का इस्तेमाल उनकी बिना अनुमति के किया गया है ! जुकरबर्ग को माफी मांगनी पड़ी लेकिन इसके बाद उनकी लोकप्रियता और बढ़ गई !

नायाब विचार : मार्क जकरबर्ग के साथी स्टूडेंट्स ने वेबसाइट का नाम हावर्ड कनेक्शन बनाने को कहा था ताकि हावर्ड के स्टूडेंट्स आपस में सम्पर्क कर सकें और जुड़ सकें ! यह सुनकरजकरबर्ग के मन में एक विचार आया कि क्यों ना एक ऐसी वेबसाइट बनाएं, जिस पर पूरी दुनिया में कहीं भी रहने वाले लोग आपस में बात कर सके और अपने फोटो वीडियो आदि दिखा सके !

एक पल में आया यही विचार आगे चलकरFacebook में तब्दील हो गया !

कंपनी की स्थापना: Facebook की स्थापनामार्क जकरबर्ग नाम के अमेरिकी कंप्यूटर प्रोग्रामर और इंटरनेट बिजनेसमैन ने अकेले नहीं की थी उनके साथी Dustin Moskovitz,Eduardo Saverin.

Chris Hughes और Andrew McCollum भी उनके साथ शामिल थे !

वैसे टीम के सबसे अहम सदस्य मार्क जकरबर्ग ही थे क्योंकि विचार भी उन्हीं का था और उन्होंने हीसप्ताह तक प्रोग्रामिंग करके Facebook का पहला संस्करण तैयार किया था अंततः फरवरी2004 को Facebook वेबसाइट शुरू हो गई !

उस वक्त इसका नाम thefacebook.comथा कंपनी के नाम से the तब हटा जब इसने2005 में Facebook Domain लाख डॉलर में खरीद लिया !

पहले ही वर्ष इसके 10 लाख सदस्य हो गए !


फेसबुक के फाउंडर मार्क जकरबर्ग के सफलता के सूत्र 

Facebook founder Mark Zuckerberg’s success formula in Hindi

शुरआती संघर्ष : हर कंपनी को शुरुआत में बड़ा संघर्ष

करना पड़ता है ! आमतौर पर शुरुआत में पूंजी की कमी होती है, उस व्यवसाय का अनुभव भी नहीं होता, और लोगों को भरोसा भी नहीं होता आदि !

facebook शुरु करते समय मार्क जकरबर्ग को भी काफी संघर्ष करना पड़ा उनके पास ज्यादा पैसे नहीं थे, और हार्वर्ड के डोरमिटर रूम में रहकर ही उन्होंने यह काम किया ! उन्होंने 85डॉलर प्रतिमाह पर एक सर्वर किराए पर लिया, और वेबसाइट शुरू कर दी Facebook शुरू करने के चंद महीनों बाद ही पैसो की समस्या ने उन्हें उन्हें चारों ओर से घेर लिया !

कंपनी चालू रखने के लिए जुकरबर्ग और उनके परिवार को लगभग 85 हजार डॉलर अपनी जेब लगाने पड़े ! जरा सोचें….. इतनी मेहनत के बावजूद पैसा आ नहीं रहा जा रहा था और संघर्ष केवल आर्थिक ही नहीं था facebook वेबसाइट शुरु होने के दिन बाद ही हार्वर्ड के वरिष्ठ विद्यार्थियों ने मार्क जकरबर्ग पर वैचारिक चोरी और धोखाधड़ी का आरोप लगाया उनका आरोप था कि उन्होंने जुकरबर्ग से HarvardConnection.com नाम की Social Network बनाने को कहा था लेकिन उनका विचार चुराकर जकरबर्ग ने Facebookवेबसाइट शुरू कर दी !

इस आरोप से मार्क जकरबर्ग को काफी तनाव और सामाजिक ताने झेलने पड़े, लेकिन अंततः मामला सुलझ गया !

जैसा मार्क जकरबर्ग ने कहा है  

जब मैंने यह वेबसाइट शुरू की थी तब मैं 19 साल का था उस समय में व्यवसाय के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानता था

Mark Zuckerberg Quotes in Hindi

महत्वपूर्ण मोड़: facebook शौक से व्यवसाय में तब बदला जब 2004 के अंत में पिटर थील मेंलाख डॉलर का निवेश किया, यह निवेशfacebook के लिए इसलिए महत्वपूर्ण था क्योंकि पिटर PayPal, YouTube, LinkedIn जैसी शुरुआती कंपनियों में निवेश कर चुके थे !

उनकी सलाह और मार्गदर्शन facebook के बहुत काम आया ! जाहिर है, facebook की प्रगति से थील को भी काफी लाभ हुआ उनका 5लाख डॉलर के निवेश आज अरबो डॉलर में बदल चुका है !

तो अब बात आती है कि मार्क जकरबर्ग ने ऐसा क्या किया कि आज सफलता उनके कदम चूमती है तो आइए जानते है मार्क जकरबर्ग की सफलता के मंत्र

A Success Story Of Mark Zuckerberg In Hindi

  1.  जी तोड़ मेहनत करे: पैसे तो विरासत में भी मिल सकता है, लेकिन सफलता नहीं मिल सकते सफलता के लिए तो इंसान को स्वयं मेहनत करनी पड़ती है तभी जाकर वह कामयाबी कि मंजिल पर पहुंचता है !

facebook को सफल बनाने के लिए मार्क जकरबर्ग ने बहुत मेहनत की थी !

मार्क जकरबर्ग के अनमोल विचार

मैं सोचता हूं कि लोगों के मन में बहुत सी काल्पनिक बातें रहती हैलेकिन क्या आप जानते हैं Facebook की असली कहानी बस इतनी है, की हमने पूरे समय बहुत कड़ी मेहनत की है ! मेरा मतलब है… असली कहानी शायद काफी बोरिंग है, मेरा मतलब है हम साल तक बस अपने कंप्यूटर पर बैठे रहते और कोडिंग करते रहते थे!

-Mark Zuckerberg Quotes in Hindi

 

  1.  बड़ी सोच रखें : छोटी सोच वाले लोग ज्यादा आगे तक नहीं पहुंच पाते ! बड़ी सफलता पाने के लिए इंसान को अपनी सोच को भी बड़ा करना पड़ता है, मार्क जकरबर्ग के सपने बड़े थे ! उनके मित्रFacebook को कॉलेज प्रोजेक्ट के रूप में देख रहे थे मार्क जकरबर्ग नेFacebook को विश्वव्यापी प्रोजेक्ट के रूप में देखा, जो लोगों के संपर्क का तरीका बदल देगी ! दूसरे लोगFacebook का मूल्य करोड़ों डॉलर मैं आंक रहे थे, लेकिन मार्क जकरबर्ग ने तो अरबो डॉलर की कंपनी का सपना देखा था

    Facebook को खरीदने के लिए कई बार कंपनियों ने बोली लगाई लेकिन मार्क जकरबर्ग की रूची पैसे कमाने में नहीं थी ! वह दूरगामी दृष्टिकोण पर चल रहे थे और संसार को बदलने में उनकी अधिक रूची थी अपने सपने को पूरा करने की खातिरमार्क जकरबर्ग ने कॉलेज की पढ़ाई अधूरी छोड़ दी ! और समर्पित भाव सेFacebook को सफल बनाने में जुट गये ! 

    जैसा कर्कपैट्रिक ने कहा है “यह पैसे के बारे में नहीं है, अगर जकरबर्ग यह कामपैसे के लिए कर रहे होते तो बरसों पहले ही इसे बेच देते !”

छोटी शुरआत करे: विचार आते ही काम शुरु कर दें. अगर आपने ऐसा नहीं किया. तो वह विचार दूसरे विचारों तले दब जाएगा या आलस के मारे आप उसे नजर अंदाज कर देंगे ! 
  1. शुरू करते समय यह न सोचे की पर्याप्त पूंजी नहीं है या पर्याप्त समर्थन नहीं है, बस काम शुरु कर दें ! अगर आपके विचार में दम है तो पूंजी और समर्थन बाद में अपने आप आ जाएगा !

    मार्क जकरबर्ग के साथ यही हुआ था, वो विश्वव्यापी क्रांति करना चाहते थे लेकिन उनकी शुरूआत छोटी थी Facebookशुरू करने के लिए उन्होंने किसी निवेशक के लाखों डॉलर के निवेश का इंतजार नहीं किया ! उन्होंने तो अपनी डोरमिटरि से छोटी सी शुरुआत कर दी ! शुरुआत में इस वेबसाइट का इस्तेमाल केवल हार्वर्ड के विद्यार्थी ही कर सकते थे ! जब हार्वर्ड के50% से अधिक अंडर ग्रेजुएट विद्यार्थी इसके सदस्य बन गए ! बाद में दूसरे कॉलेज के विद्यार्थियों को भी इसके इस्तेमाल की अनुमति दे दी गई ! फिर स्कूल के विद्यार्थियों को और फिर 2006मैं इसकी सदस्यता 13 साल से बड़े हर व्यक्ति के लिए Available थी जिसका कोई इमेल एड्रेस हो !

    पहले Facebook कि Wall पर यह स्लोगन लिखा था “कोई भी किया गया काम आदर्श कल्पना से बेहतर होता है” बाद में निवेशक जुड़ते चले गए ! और धीरे-धीरे Facebook एक बड़ी कंपनी में बदल गई ! अप्रैल 2005 मे एक्स्लpartner 1.27 करोड़ डॉलर का निवेश किया ! अक्टूबर 2007 में माइक्रोसॉफ्ट ने 24 करोड़ डॉलर का निवेश किया ! गोल्डमैन सैक्स ने Facebook में 45करोड़ डॉलर का निवेश किया ! 

    इस बारे में मार्क जकरबर्ग सलाह देते है कीमैं सोचता हूं की व्यवसाय का एक सरल नियम यह है यदि आप पहले ज्यादा आसान चीजें करते हैं तो आप दरअसल बहुत प्रगति कर सकते हैं

Mark Zuckerberg Quotes in Hindi

  1. प्रलोभन से बचे: Facebook शुरूकरने के चार महीने बाद से ही निवेशक इसे खरीदने का प्रस्ताव लेकर आने लगे !2004 में न्यूयॉर्क के एक फाइनेंसर ने एक करोड़ डॉलर की बोली लगाई ! 

    सोचिये अगर दूसरा कोई होता तो इस प्रस्ताव को मंजूर कर लेता और सोचता किसाल की मेहनत के बदले में एक करोड़ डॉलर की रकम बुरी नहीं है, लेकिन मार्क जकरबर्ग प्रलोभन की आंधी में उड़ने वालों में से नहीं थे हालांकि उनके सामने लगातार अच्छेअच्छे Offers आते रहे फ्रेंडस्टर ने Facebook को खरीदने की कोशिश की ! वायाकॉम ने की, याहू औरgoogle,MySpace ने एक अरब डॉलर की बोली लगाई ! यदि मार्क जकरबर्ग प्रलोभन में आ जाते, तो आजवह संसार के सबसे युवा अरबपति नहीं होते बल्कि पछता रहे होते ! 

    क्योंकि आईपीओ आने के बाद कंपनी का मूल्य 104 अरब डॉलर हो चुका है और यह किस कारण है क्योंकि मार्क जुकरवर्ग प्रलोभन में नहीं फंसे, बल्कि दूरगामी दृष्टिकोण पर चले !

    सीधे शब्दों में कहें: हम पैसे बनाने के लिए सेवाओं का निर्माण नहीं करते; हम पैसे बनाते हैं ताकि बेहतर सेवाओं का निर्माण कर सकें।

Mark Zuckerberg Motivational Quotes in Hindi

तेजी से काम करें : मार्क जकरबर्ग ने हार्वर्ड की डोरमिटरी के कमरे में खाली समय में  Facebook का पहला संस्करण तैयार किया, उन्होंने कोई बिजनेस plan नहीं लिखा था अपने दोस्तों और सलाहकारों से लगातार नहीं पूछा की उनके विचार के बारे में उनकी क्या राय थी,

उन्होंने इसकी सफलता के बारे में कोई मार्केट रिसर्च’ नहीं की उन्होंने पेटेंट या ट्रेडमार्क के लिए आवेदन नहीं दिया ! उन्होंने तो बस एक वेबसाइट तैयार की और उसे शुरू कर दिया ! बहुत सी कंपनियां अपनी वेबसाइट को जटिल बना देती है और आदर्श बनाने के चक्कर सब कुछ गड़बड़ कर देती है ! Facebook ने ऐसा कुछ नहीं किया उसने तेजी से और सरलता से काम किया इसका पहले संस्करण बहुत ही सरल था ! 

मार्क जकरबर्ग ने कहा है

मेरा लक्ष्य कभी भी बस एक कम्पनी बनाने का नही था । कई लोग इसका गलत अर्थ लगाते हैं,मानो मुझे राजस्व या लाभ या ऐसी चीजों की कोई चिंता नहीं है। बल्कि बस एक कम्पनी ना होने से मेरा मतलब था बस एक कम्पनी नहीं खड़ी करना– कुछ ऐसा बनाना जो सचमुच दुनिया में एक बड़ा बदलाव ला सके 

 Mark Zuckerberg Inspirational Quotes in Hindi

 दोस्तों आप को Biography of Mark Zuckerberg in Hindi कैसा लगा आप अपने विचार निचे कमेंट बॉक्स में जरुर दे ! और अगर आपको ये लेख पसंद आया तो इसे अपने फेसबुक दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे  !

Advertisements

हेलो दोस्तों! मेरा नाम भेरू सिंह है मेरे बारे में क्या बताऊँ छोटा मुह बड़ी बात is website par apko blogging,seo,adsense,android tricks and tips facebook triks milegi pasand aye to age bhi share karna

Posted in FACEBOOK

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

In Archive
%d bloggers like this: